Follow my blog with Bloglovin
Monday , 23 April 2018
Breaking News

विश्व चित्रगुप्त प्रगटोत्सव तैयारियों का आह्वान

painting festival started newspatrolling
 
चित्रगुप्त प्रगटोत्सव की तैयारियां आरम्भ हो गयी हैं। इसके लिए कायस्थ वाहिनी अन्तर्राष्ट्रीय के सदस्यों ने  विचार-विमर्श शुरू कर दिया हैं। भगवान चित्रगुप्त जी के अवतरण पर्व  देश-विदेश में पूरे  हर्षोल्लास के साथ चैत्र पूर्णिमा के दिन मनाता चला आ रहा है। इस वर्ष यह 31मार्च को जनपद में मनाया जायेगा। 
 
भगवान चित्रगुप्त जी जो प्राणियों के चित्त में गुप्त रूप से विराजित होकर उनके शुभ-अशुभ कर्मों का लेखा-जोखा रखने वाले प्रभु श्री चित्रगुप्त जी का अवतरण पर्व देश में चैत्र पूर्णिमा के दिन काफी हर्षोल्लास से मनाया जाता है। कहीं प्रभु की मनोरम झाँकी निकलती है, तो कहीं रथयात्रा, कहीं पूजा की जाती है तो कहीं भण्डारा, इस दिन लोग अपने घरों में दीप प्रज्वलित कर पुरे परिवार के साथ प्रभू चित्रगुप्त जी का स्वागत करते हैं और खुशियाँ मनाते हैं। पुराणों में वर्णित है कि भगवान विष्णु जी की आज्ञा से ब्रह्मा जी ने जब सृष्टि का निर्माण किया और सभी जीव-जन्तुओं की उतपत्ति की और सृष्टी के संचालन की व्यवस्था की जिम्मेदारी यमराज जी को सौंपी गयी। तो उन्होंने अकेले इस पुरे कार्य को सम्पादित करने में असमर्थता जताई। फिर यमराज ने ब्रह्मा जी से निवेदन किया कि हे ! प्रभु मुझे एक ऐसा सहायक दीजिये जो लेखा-जोखा रखने में निपुण हों, लेखनी पर जिनका अधिपत्य हो, विराट स्वरूप धारी हों, तब ब्रह्मा जी ने यमराज जी की मांग के अनुसार उनका काल्पनिक चित्र हृदय में धारण किये महाकाल की नगरी उज्जैन के शिप्रा नदी के तट पर अंकपात नामक स्थान पर ध्यानमग्न हो गए। 11000वर्षों की साधना के पश्चात् चैत्र पूर्णिमा के दिन भगवान चित्रगुप्त जी का अवतरण हुआ। कायस्थ वाहिनी के सदस्यों ने कहा की कायस्थवाहिनी प्रमुख, कायस्थ शिरोमणि, कायस्थ रत्न, गुरूदेव पंकज भइया कायस्थ जी के आवाह्न का मान रखते हुये भगवान श्री चित्रगुप्त जी की पूजा मैं सभी लोगों को शामिल होने का निवेदन किया। इस बैठक में मुख्य रुप से , अमृत सिन्हा, अक्षय श्रीवास्तव, सौरभ श्रीवास्तव, सुनील श्रीवास्तव, अमन सक्सेना, पूजा कुलश्रेष्ठ  सहित लोग उपस्थित थे।
 
 

Comments are closed.

Scroll To Top
badge