Follow my blog with Bloglovin
Thursday , 22 August 2019
Breaking News

Category Archives: Poem

CHARRED DIALECT

I asked for bread and butter and a shadow And of all the places I’ve been this is what I am searching But lest should the butter melt away and the bread become mouldy The shadow which I need to follow walks away Into a dark and disdain path Crumpled by the leaves of sorrow in the autumn wind   ... Read More »

Ek Praskar (एक पुरस्कार)

कोख  में  बैठा  एक  नन्हा  सा  पुरस्कार मत  कर  ऐ  इंसान  उसका  तू  तिरस्कार आने  दो  उसे  आसमान  तक  छाने  दो  उसे कोख  में  ही  मार  दिया  तो  तुझ  पे  है  धिक्कार भगवान  की  हर  बात  कबूल  कर  ऐ  प्राणी वो  बेटी  होगी  या  बेटा  ये  जान  ने  का  तुझको  क्या  अधिकार बेटी  होगी  लक्ष्मी  होगी  माँ  बन  कर  तू  ... Read More »

Maharana Partap (महाराणा प्रताप)

वो  महाराणा  हो  वो  प्रताप  हो वो  देश  रा  राजपूता  रो  मान  हो आन,  बान,  हिंदुत्व  की  शान  हो मेवाड़  रो  वो  प्रताप  हो लड़ियों  गणो,  वो  सहियो  गणो वो  हल्दीघाटी  रो  जिवंत  प्राण  हो उदयपुर  री  गाथा  में  वीरता  रो  प्रमाण  हो राजपूता  रे  सम्मान  रे  खातिर  लड़ियों  वो  राजपूता  रो  भगवान  हो वो  महाराणा  हो  वो  तो  प्रताप  ... Read More »

Mewad Ro Mukut (मेवाड़ रो मुकुट)

कुम्भलगढ़  में  जन्म  लियो उदय  सिंह  जीवत  रो  लाल  कह  लायो   शौर्य,पराक्रम,  मान्धिन,  गौरवशाली  मानव  वो  कहलायो शौर्य  पुत्र  प्रताप  रो  चेतक  ने  भी  क्या  खूब  साथ  निभायो   हल्दी  घाठी    री  गाथा  भी  अमर  रही सलीम  ने  घायल  कर  युद्ध  सु  भगायो   मेवाड़  रो  मुकुट  बचावण  ने  मन्ना  जी  भी  प्रताप  रो  साथ  निभायो लहूलुहान  प्रताप  फिर  ... Read More »

Maa Bolu To (माँ बोलूँ तो …)

माँ  बोलूँ  तो  आंसू  गिर  जाते  है तेरे  बिन  जी  लू  तो  भगवान  रूठ  जाते  है कैसा  ये  मनोरम  चेहरा  है  माँ अगर  कुछ  बोलूँ  तो  आंसू    गिर  जाते  माँ चिंता  में  हमेशा  मे  रहता सब  दर्द  तुम  क्यों  सह  लेती  हो  माँ आँचल  में  छुपालों  मुझको दुनियाँ  से  अब  डर  लगता  है  माँ रो  रो  कर  पुकारू  तुझको ना  ... Read More »

Kyo Bigada Mujhe (क्यों बिगाड़ा मुझे)

ख़ुशी  आज  भी  है ख़ुशी  कल  भी  रहेगी मेरी  हर  आदत तुम  से  कहेगी “क्यों  बिगाड़ा  मुझे” हँसी  रहेगी  चेहरे  पर आँखे  नम  सी  रहेगी डूब  जायेगे  एक  दिन साँसे  तुम  से  कहेगी “क्यों  बिगाड़ा  मुझे” लब्जो  में  गम  है इस  दुविधा  में  हम  है कोई  नही  है  दूर  दूर  तक फिर  भी  आँखे  तुम  से  कहेगी “क्यों  बिगाड़ा  मुझे” ... Read More »

Armaan Jalte He (अरमान जलते है)

  कहती  है  सरकार  हम  किसी  गरीब  को  भूखा  नही  सोने  देंगे खुशियाँ  जलती  है  भूख  बढ़ती  है,  लाचारी  में  बच्चों  के  हाथ  जलते  है अरे  !!!    नेताओं  गरीबों  के  चूल्हे  में  तो    आज  भी  उसके  अरमान  जलते  है ख़ुशी  नही  दी  तुमने  तो  दुःख  क्यों  बाटते  हो अरे  !!!  सरकार  की  अत्याचारी  में  गरीबों  के  शमशान  जलते  है वोट  ... Read More »

Meri Kahani Meri Jubani Part 3 (मेरी कहानी मेरी जुबानी भाग 3)

लिखते  लिखिते  जिंदगी  और  आगे  बढ़ी दुनियाँ  से  मुझे  और  ठोकरे  खानी  पड़ी लिख  लिख  कर  बयां  करता  रहा  अपने  अरमानों  को सुना  सुना  कर  बताता  रहा  अपने  जख्म  में  दुनियाँ  को पर  अभी  भी  मंजिल  बहुत  दूर  थी धीरे  धीरे  कविताएँ  आगे  बढ़ती  रही काव्य  सुमन,  मौत-ऐ-कहानी लिख  कर  सुना  दी  अपनी  कहानी कविताओं  का  शतक  पूरा  हुआ अभी  ... Read More »

Aai Gudiyaa (आई गुड़ियाँ)

छम-छम  करती  आई  गुड़ियाँ तू  है  मेरे  सपनों  की  पूड़ियाँ आजा  मेरे  पास  ओ  !!  मुनियाँ कब  तक  तरसाएगी  ये  दुनियाँ छम-छम  करती  आई  गुड़ियाँ तू  है  मेरी  छोटी  सी  बगियाँ कोमल  चंचल  छोटी  सी  कलियाँ सब  दुःख  से  बचाऊ  तुझको तू  है  मेरी  खुशियों  की  बिटियाँ छम-छम  करती  आई  गुड़ियाँ तेरी  किलकारी  गूंजी  थी  जब  मै खूब  खुश  था  ... Read More »

Roti Ki Laachari (रोटी की लाचारी)

छुप  रहे  अत्याचारी खा  रही  रोटी  की  लाचारी बंद  हुआ  अन्न  पानी भूख  से  जनता  परेशान  बेचारी धान  उगाता  देश  यहाँ फिर  भी  इतना  महंगा  है क्या  बयां  करू  चंद  शब्दों  में किसानों  की  लाचारी 2  समय  के  खाने  को कितना  तरसना  पड़ता  है भाग  भाग  पूरा  दिन  काम  किया फिर  रात  बिन  खायें  सोना  पड़ता  है ये  देश  हुआ  ... Read More »

Scroll To Top
badge