Follow my blog with Bloglovin
Thursday , 22 August 2019
Breaking News

Category Archives: Poem

Saath Hote Tum (साथ होते तुम)

ख़्वाबों  की  सीढ़ियों  में  कितनी  कशिश  है महोबत  की  राहों  में  पता  नही  कितनी  बंदिश  है अगर-मगर  इधर-उधर  बहता  हूँ  पानी  की  तरह और  एक  महबूबा  के  इज़हार  की  आस  की  रंजिश  है दीवाने  हो  मेरे  या  मुझको  बना  रहे  हो  दीवाना प्यार  में  अपने  तुम्हारी  कसम  कितनी  सादिसे  है हो  मेरे  या  फिर  हो  किसी  अनजान  के  जिंदगी  के  ... Read More »

Rajputaa Ro Maan Kate (रजपूता रो मान कटे)

रजपूता  रो  मान  कटे  है वो  जाति  रो  सम्मान  कटे  है अंग्रेजी  सरकार  नोच  लिया  रजपूता  ने वो  गढ़,ठिकाना  रो  मान  कटे  है राजा  वेता  महल  वेतो वो  तिलक,  साफा  और  तलवार  रो महत्त्व  वेतो तलवार  अब  चाक़ू  वेगी साफा  अब  टोपी  वेग्या वा  रजपूता  री  शान  कटे रजपूता  रे  राज  लिखियों  हो आज  तो  सब  रे  काज  लिखियों  है ... Read More »

Anokhi Preet (अनोखी प्रीत)

रीत  अनोखी  प्रीत  सही मन  का  अनोखा  मित  सही बिन  कहे  अजुबा  बन  जाऊ कई  ऐसी  गीत,  संगीत  सही उमड़-घुमड़  बादल  का  साया बिन  परछाई  कुछ  समझ  ना  आया रज-रज  निहारु,  नित  आंसू  पी  जाऊ आंसू  की  धार  उसकी  संगी  सखी एक  राज,  राज  सही  देखे  बिन  काज  नही हम  अकेले  कब  तक  भागेंगे  जब  आप  का  साथ  नही नजर  ... Read More »

Uski Izzat (उसकी इज़्ज़त)

वो  अपनी  इज़्ज़त  आबरू  लिए  बिस्तर  पर  जम्हाइयाँ  ले  रही  थी मै  उसके  पास  बैठ,  उसकी  आबरू  को  तक  रहा  था वो  सिसक  सिसक  कर  अपनी  आहें  ले  रही  थी और  मै  सिसक  सिसक  कर  उन  आहों  को  पि  रहा  था खो  कर  सारे  अरमानों  के  पहाड़ों  को,  वो  रो  रही  थी मै  उन  जज्बातों  को,  फिर  से  दिलाने  के  ... Read More »

Tere Bin (तेरे बिन)

कही  तो  होगी  वो  नूरानी बस  होके  प्रेम  दीवानी मदहोश  होके  राहों  पे  मेरी गुम  हो  जायेगी  उसकी  इश्क़  की  खुमारी बिन  उसके  बरसते  नही  ये  बादल बिन  उसके  रंग  नही  है  सावन  में बिन  उसके  खुशबु  नही  है  फूलों  में अब  तो  आ  जाओं  मेरी  उल्जी  हुई  पहेली तुम्हे  सुलजाने  को  भी  कम  है  ये  जिंदगानी ऐतबार  नही  इस  ... Read More »

Natkhat Manva (नठखट मनवा)

  मन  की  गति  में  दौड़े  जाये  बेला उछल  कूद  करता  जाए  मनवा  छेला मनवा  कोयल  सा  गीत  गाये  सुरीला मन  की  इच्छाओं  की  तीव्र  गति  से  बढ़ती  मधुबेला वैरागी  सा  मनवा  गुमे  अकेला कूट  नीतियों  से  भरा  है  मनवा  मेला मनवा  की  गाथा  गाये  कोकिला अहम्  ,  अहंकार  से  बहता  मनवा  रेला लक्ष्मी  देख  मनवा  बनता  खर्चीला बिन  लक्ष्मी  ... Read More »

अँधेरा (BLACK)

बेकसूर  सा  रंग कई  उसमे  उमंग अँधेरे  के  संग खुद  में  मलंग काल  का  काला  रंग मिलों  लम्बी  सुरंग बिना  सुर  का  सारंग गुमनाम  सा  स्वर्ग इठलाता  हुआ  स्वांग नशे  से  लुप्त  भांग जीत  की  हजारों  तरंग जिंदगी  उसके  बिना  बेरंग जीवन  पे  दाग उजाले  का  सुहाग काले  रंग  पे  बेदाग़ अँधेरे  में  लगी  जैसे  आग मुश्किलों  में  मुश्किल सवालों  ... Read More »

दोहावली भाग 1

साईं  भरोसे  राठौड़  है,  साईं  ही  उसका  पालन  हारा पुरे  जग  में  है  नाम  साईं  का  ,  फिर  तू  क्यों  फिरे  मारा  मारा    ||  १  || गुरु  की  वाणी  बोलिए,  गुरु  करे  सो  ना  कर एक  दिन  तर  जाएगा,  गुरु  कहे  सो  कर    ||  २  || प्रेम  व्यवहार  सब  जूठ  है,  इन  से  मोह  ना  कर मोह  रखे  सब  तुझसे,  ... Read More »

It’s rather interesting…

In the silence of night With an emptiness in sight In the midst of this void A few thoughts trickle down my mind   A glance at the years past Unable to recollect muse last Seems that everything started With a question mark   Answers were in front of my eyes Was just waiting for the moments to rise And ... Read More »

Drizzles

Heavy air and a moon stare Eye lids close with slumber Then open up with thunder It happens again and again   When I close my eyes I see the palaces of the past When they open I fail to see the ruins   Yet a strangeness engulfs When a grey past drizzles Like drops of water Fall on dry ... Read More »

Scroll To Top
badge