Follow my blog with Bloglovin
Sunday , 25 August 2019
Breaking News

Category Archives: Poem

Infatuation

I zoom into the pictures which you got clicked in a group And I save the pictures which you upload of your own I stare at all your pictures all day and all night through I feel like a complete and utter fool but, baby, I am so in love with you!   I think of you at the office ... Read More »

Puncho Naa Mera Haal ( पूछो ना मेरा हाल )

तुम  पूछो  ना  मेरा  हाल  मै  ठीक  हूँ तुम  करो  ना  मेरी  परवाह  मै  मस्त  हूँ तुम  भरी  महफ़िल  में  छोड़  के  गई फिर  भी  तेरी  याद  के  साथ  जिन्दा  हूँ तुम  भूल  जाओ  मगर  मै  कैसे  भुलु  तुम्हें तुम  मेरी  रूह-रूह  में  बसी  हो  ये  तुम्हें  क्यों  कहु मै  दीवाना  तू  बेगानी,  मै  परवाना  तू  अंजानी मै  शायर  सही  ... Read More »

Naa Pucho Is Diwane Se ( ना पूछो इस दिवाने से )

तन्हाई  के  मंझर  पर  गुझर  रहे  हो  आप तनहा  खुद  होकर  भी  हमसे  पूछ  रहे  हो  आप हम  क्या  बताये  आप  की  तन्हाई  का  मंझर सब  कुछ  पास  होके  भी  मेरे  दिल  है  बंझर तुम्हारे  सवालों  के  जवाब  आज  भी  मिलते  नही बता  तो  सब  दे  पर  ये  दिल  गवा  देता  नही ना  पूछो  अब  इन  हवाओं  से  की  हम  ... Read More »

Navvarsh 2014 ( नववर्ष 2014)

नव  दीपों  की  नव  लोह  जल  रही  है  नयारी जो  सब  आज  यहाँ  उपस्थित  है  उनका  मै  बहुत  आभारी कह  रही  समय  की  चिड़ियाँ  बारी-बारी अब  2013    तो    गया  अब  2014    की  बारी कट  गए  या  काटे  गए  थे  वो  पल आ  निकले  फिर  भी  जैसे  फूलों  की  हो  क्यारी मन  की  गति  आज  समय  से  भारी उत्पीड़ा,वैराग्य  से  निकल  ... Read More »

Jindgi Raas Naa Aai ( जिंदगी रास ना आई )

मन  की  मती  कहा  ले  आई मुझको  मेरी  जिंदगी    रास  ना  आई शब्दों  के  जंजाल  में  हूँ  कही एक  भी  लहर  एक  सांस  में  ना  आई रूबरू  हुआ  जख्मों  से  हर  दम मुझे  किसी  भी  पल  ख़ुशी  ना  आई एक  चाँद  को  देखता  था  मै  अकेले  बैठ  कर पर  उसे  भी  मेरी  निहारने  की  अदा  ना  भाइ आहट  आती  है  ... Read More »

Jindgi na sambhalti he ( जिंदगी ना संभलती है )

ना  गुजरती  है  ना  कटती  है ऐ!  खुदा  तेरी  जिंदगी  अब  मुझसे  ना  संभलती  है ना  मिलती  है  ना  बिकती  है ना  हँसती  है  ना  रोती  है मंजिल  तक  ना  पहुँचती  है ना  रूकती  है ऐ  खुदा  ले  ले  तेरी  जिंदगी  अब  मुझसे  ना  संभलती  है ना  चुप  रहती  है  ना  मचलती    है ऐ  खुदा  तेरी  ये  दी  हुई  जिंदगी  ... Read More »

चूड़ियाँ (Chudiya)

तप-तप  कर  बन  जाती  है  कांच  की  चूड़ियाँ बचती  बचाती  बाजार  में  पहुंच  जाती  है  चूड़ियाँ आते  खरीदार  पसंद  करते  है फिर  ठुकराते  है  चूड़ियाँ लाल  हरी  नीली  पीली  कई  रंगो  में  होती  है कई  टुट  के  गिर  जाती  है और  कई  हाथों  में  सज  जाती  है  चूड़ियाँ जब  बोलती  है  तो  किसी  को  बुलाती  है  चूड़ियाँ जब  दो  पंछियों  ... Read More »

वैराग्य

सब  छोड़  मुसाफिर  अपना  ले  वैराग्य घर,  रिश्ते,  समाज  और  अपनों  को  ना  त्याग दान  कर  ले  विचार  सब,  विचार  में  ले  वैराग्य बैठ  जा  अब  तो  रे  प्राणी,  ना  दौड़-भाग भाग-भाग  कब  तक  भागेगा करने  कलेवा  पीछे  तेरे,भाग  रहे  यमराज संसार  की  हर  वस्तु  भय  देगी,  नीडर  है  वैराग्य शांत  कर  अपने  मन  को बस  कर  ले  वैराग्य  अपने  ... Read More »

खामोश अल्फाज

शब्दों  के  आश्मान  से  शब्द  लिए  जा    रहा  हूँ सफ़ेद  कफ़न  पे  मेरे  आँशु  लिखे  जा  रहा  हूँ फिर  भी  चढ़ा  नही  ये  कफ़न  आज  तक  किसी  लाश  पर लेकर  फिरता    हूँ  गली-गली,  कभी  कोई  आश  नही  कभी  अच्छा  अहसास  नही मन  गमगीन  हुआ  फिरता  है,  विचारों  की  कोई  शाम  नही आशा  निराशा  की  फ़िक्र  नही  हँसी-ख़ुशी  का  जिक्र  नही ... Read More »

मेरा सपना

  सब  गम  अपना  सबको  खुश  रखना    नही  चाहिये  माया  साथ  रहे  नाम  कमाया   रहे  बुजुर्गों  का  साया  मिले  एक  पेड़  की  छाया    सुकून  से  भरा  रास्ता  हो  मेरी  भगवान  मे  आस्था    मेरे  जैसे  हजारों  लिखने  वाले  बनाऊ  सब  रहे  यहाँ  और  मै  कही  गुम  हो  जाऊ    रो  रो  कर  सारी  थकान  उतार  दूँ  मै  ... Read More »

Scroll To Top
badge