Follow my blog with Bloglovin
Thursday , 22 August 2019
Breaking News

Category Archives: Poetry

Tu Kar Ibadat ( तू कर इबादत )

तू  कर  इबादत  मेरी  लाश  को  कुत्ते  खाए लगा  कर  मुँह  पे  खून  मेरा  वो  तेरे  पास  आये तू  कर  आज  इबादत  मेरी  अर्थी  जल्द  ही  सज  जाए नुरे  नजर  इतेफाक  से  तेरा  निकाह  उसी  दिन  हो  जाए तू  कर  तेरे  आका  से  रहमते  तेरी  रूह  की मै  करू  सजका  अल्लाह  का  और  मेरी  रूह  भी  तेरी  हो  जाए तू  ... Read More »

Tera Jikr (तेरा जिक्र)

लिखने  जो  लगा  तो  ख्याल  में  बाँधा  तुमने इन  सजे-धजे  शब्दों  को  दिल  से  निकाला  तुमने यु  जिक्र  तेरा  जब  महफ़िल  में  आता  है सब  हँसते  है  और  ये  दिल  भर  आता  है तेरी  गैर  मौजूदगी  आज  भी  खलती  है तेरे  प्यार  की  पुरवाई  आज  भी  दिल  में  चलती  है यु  रुख़्सार  हुआ  करता  था  तुमसे  कभी अब  तो  तेरा  ... Read More »

Bhed Mita Do (भेद मिटा दो)

जिन  झुग्गी-झोपड़ियों  में  जो  गरीब  रहते  है उधर  जाकर  ये  अमीर  फोटो  खिचवा  के  आते  है दान  धर्म  करके  वो  न्यूज़  मे  आना  चाहते  है दान  करो  पर  नाम  ना  करो  दान  के  नाम  पर  नाम  करवा  के  आते  है हिम्मत  हो  एक  घर  को  अपने  घर  सा  पालो उन  गरीब  बच्चों  को  अच्छे  स्कूलों  मे  डालो जिनके  माँ  बाप  ... Read More »

शीश कटा कर के

  माँ  ने  भेजा  नत  मस्तक  तिलक  लगा  कर  के बेटा  आता  है  अपना  शीश  कटा  कर  के भेजा  था  उसे  सीमा  पे  पुष्प  माला  पहना  कर  के आज  आया  है  सीमा  पे  जान  गवाँ  कर  के खुशियाँ  थी  अपार  उसको  जब  गाड़ी  मे  बिठाया  था आज  दुःखी  है  देश  सारा  जब  गाड़ी  से  उसे  उतरा  था मन  प्रफुलित  था  ... Read More »

लोट आ माँ

जब  पुकारा  मेने  भगवान  को,  तो  होती  सामने  माँ दर्द  में  जब  रो  रहा  होता  हूँ  तो,  सहला  रही  होती  है  माँ   दूर  जा  कर  तुझसे  खोया  रहता  हूँ कोई  ना  दिखता  मुझे  पास  तो,  तू  होती  साथ  माँ   आँशु  की  हर  किलकारी  तुझे  पुकारे बिन  मंदिर  के  भगवान  है  माँ   आज  यादों  में  तुम  हो  मेरे ... Read More »

आज जीना मुश्किल है

अमीरों  के  लिए  सविंधान  है गरीबों  के  लिए  समशान  है   बेच  दिए  घर  के  बर्तन फिर  भी  भूखे  सोते  है हमारे  जलाने  को  लकड़ी  भी  नहीं वो  मखमल  के  बिस्तर  पर  सोते  है   भेदभाव  इतना  है  की  खाना  मुश्किल  होता  है  रोती  बिलखती  माँ  अब  ये  कहती  है भूखे  बच्चों  को  सुलाना  मुश्किल  होता  है   मेहनत  कर  ... Read More »

धोखे में !

जोर खते हैं अपने परिवार को  –  धोखेमें दोस्ती को धोखे में ओर प्यार को  –  धोखेमें देश से क्या लेना देना उनको ज़रा सोचो वो रखेंगे पुरे संसार को  –  धोखेमें  ‘मत’ काकरनाइस्तेमाल, तुम बहुमत देने में ‘मत’  देमतदेनातुम, किसीगद्दारको-धोखे में साथ निभाने को अपना मजबूर कर देंगे ले लेंगे तुम्हारे ये, ऐतबारको धोखे में   कुछ नहीं इन के आगे ये ... Read More »

नेता बनने से पहले क्या क्या करना

चाहो  जो  तुम  खूब  कमाना  –  देश  विदेश  में  आना  जाना सरकारी  पैसा  मौज  उड़ाना  –  मंत्री  बन  फिर  धौंस  जमाना सब  होगा,  नेताओं  के  तलवे  चाट  अगर  लो बस  जरा,  जी  हुजूरी  कर  लो चाहो  अगर  तुम  चाँद  पे  चढ़ना  –  जिन्दगी  में  आगे  बढ़ना भरपूर  जो  चाहो  तरक्की  करना  –  न  चाहो  कभी  एडियाँ  रगड़ना तो  तुम  भी  ... Read More »

जिस्म की जुदाई जान से

अब  जाना  है  मुझेको,  तुम  आखें  भिगोये  बैठी  हो, तान्हायों  में,  खुद  को  समाये  बैठी  हो, क्यों  आई  दूर  इतने,  की  आज  बाहें  समेटे  बैठी  हो, चल  उठ,  कर  बिदा  मुझे,  क्यूँ  नजरें  झुकाये  बैठी  हो  ।1।   साथ  रहता  हूँ  जब  तक,  लड़ता  हूँ  पल  पल, ये  दूरी  है  मीलों  की,  बढ़ता  जाता  है  पल  पल, दूर  होता  हूँ  ... Read More »

मेरा नया ठिकाना

जिन्दगी  की  कसमकस  से  दूर  एक  सैया  पे  सोये  हें  | एक  तरफ  घी  का  दीपक  दूसरी  और  कूल  का  दीपक रो  रो  कर  अपने  अपनों  को  बुला  रहे  हे  दोस्तों  ||1|| जो  था  मन  में  वो  सब  रो  रो  के  सुना  रहे  हे  | जब  में  था  तो  कोई  मेरा  ना  था आज  सब  चिल्ला  चिल्ला  कर  अपना  बता  ... Read More »

Scroll To Top
badge