Breaking News

बाअदब आँखों में गौहर छुपाए रखता हूँ

बाअदब  आँखों  में  गौहर  छुपाए  रखता  हूँ
लबों  पर  अपने  तबस्सुम  सजाए  रखता  हूँ  .

मुक़म्मल  आराम  चाहती  हैं  थकी  पलकें
आख़िरी  दिन  लिए  नींद  बचाए  रखता  हूँ.

कोई  तन्हा  छोड़  गया  था  मुझ  दीवाने  को
उसी  मोड़  पर  मैं  आँखे  बिछाए  रखता  हूँ.

चराग़  रौशन  रखने  हों  जब  देर  तलक
एहतियातन  दूर  उनसे  हवाएँ  रखता  हूँ.

बनानेवाले  ने  कैसे-कैसे  लोग  बनाए  हैं
कोशिश  करता  हूँ  सबसे  बनाए  रखता  हूँ.

 By: Ranjan

About Team | NewsPatrolling

Comments are closed.

Scroll To Top